जैसे…

है आरजू या तो बेपनाह या ख्वाहिश अधूरी रह गई हो जैसे थम रही हैं ये सांसें या फिर वक्त … More

नहीं होता

  कुछ ऐसे रिश्ते भी होते हैं जिनका कोई नाम नहीं होता एक ऐसा सफर जहां हमसफर तो है लेकिन … More

आज भी…

शहर के उस पुराने मकान में कोई रहता है आज भी उस फकीर के मकबरे में दीया जलता है आज … More

रात भर!

  सितारों भरी रात और समां कुछ वीराना था मेरी मय्यत पर वो दीए जलाते रहे रात भर, उनकी खामोश … More

NOTE TO SELF

Dear Me, Its been quite a time that we’ve been travelling this journey called “Life”. In all these years we … More